सर्वाधिकार सुरक्षित : - यहाँ प्रकाशित कवितायेँ और टिप्पणियाँ बिना लेखक की पूर्व अनुमति के कहीं भी प्रकाशित करना पूर्णतया अवैध है.

Followers of Pahchan

Jan 19, 2012

हमसफ़र

वो जो मासूम है ज्यादा मुझसे ,
वो जो हमसफ़र है मेरा ,
" कोई बंधन नही , फिर  हमसफ़र  क्यूँ हूँ ? "
अक्सर पूछता है इस बात को कुछ यूँ कह कर-
" तेरा कौन हूँ मैं ? "


माना तेरे जिन्दगी का दीया हूँ मैं ,
जो जलकर -बुझकर भी , उम्र-भर रौशनी दे नहीं दे सकता ।
माना खुशबू कि तरहा महकता भी हूँ ,
बिखरकर तुझमे  जो उम्र-भर संग रह नही सकता।
अक्सर पूछता है ......." तेरा कौन हूँ मैं ? "


माना तेरे सहारे कि दीवार हूँ मैं ,
जो दरार के उस पार भी अधूरी हैं और उस पार भी ।
माना तेरी कहानी का नायक हूँ मैं ,
जो अस्तित्व में तो है परन्तु एक शून्य कि भांति ।
अक्सर पूछता है ......." तेरा कौन हूँ मैं ? "


माना तेरे अंतर्मन से उठते हुए सवालों का जवाब हूँ मैं ,
जो स्वयम सफल-असफल समाधानों के दवंद में उलझा है,
माना तेरी जिन्दगी के सफ़र का दिशा-सूचक हूँ मैं ,
जो थमी पवन में खुद भी निर्णय ले नहीं पाता ।
अक्सर पूछता है ....... " तेरा कौन हूँ मैं ? "

-ANJALI MAAHIL 

17 comments:

  1. सटीक और सार्थक अभिव्यकित, बहुत अच्छा लगा आपके ब्लॉग पर आकर। सादर।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  3. बहुत ही खुबसूरत
    और कोमल भावो की अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  4. कोमल भावों से सजी सुंदर अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  5. गहरे भाव।
    खूबसूरत अभिव्‍यक्ति।

    ReplyDelete
  6. सुन्दर अभिव्यक्ति है!!
    अच्छा लगा आपके ब्लौग पर आना.

    ReplyDelete
  7. खूबसूरत भाव सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  8. बेहद ही सुन्दर...भाव पूर्ण श्रेष्ठ रचना...शुभ कामनायें !!!

    ReplyDelete
  9. सुन्दर....अच्छी भावाव्यक्ति..

    ReplyDelete
  10. सब कुछ होते हुए भी पूछता है की मैं कौन हूँ तेरा ... सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  11. सुन्दर काव्य प्रस्तुति

    ReplyDelete
  12. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  13. gahan bhavo se likhi sundar abhivykti...

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...