सर्वाधिकार सुरक्षित : - यहाँ प्रकाशित कवितायेँ और टिप्पणियाँ बिना लेखक की पूर्व अनुमति के कहीं भी प्रकाशित करना पूर्णतया अवैध है.

Followers of Pahchan

May 24, 2011

जाने कब जाने कैसे ?

जाने कब जाने कैसे ?
हाथों की लकीरों में ,
दर्द दिल का उतर आया ,
जो किसी चेहरे पर ,
बीते वक़्त पढ़ा था !


जाने कब जाने कैसे ?
हसरत , बिखरी अधूरी ,
खवाहिशें समेटने की उभर आयी ,
जो किसी जुबान से ,
बीते वक़्त सुना थी  !


जाने कब जाने कैसे ?
दरारे अध्-खुले दरवाजों से 
आधी दीवारों पर चढ़ने लगी ,
जो किसी खंडर पर ,
बीते वक़्त देखी थी !



BY: ANJALI MAAHIL

7 comments:

  1. जाने कब जाने कैसे ?
    हसरत , बिखरी अधूरी ,
    खवाहिशें समेटने की उभर आयी ,
    जो किसी जुबान से ,
    बीते वक़्त सुना था !

    ये पंक्तियाँ बहुत अच्छी लगीं.
    लाज़वाब लिखती हैं आप!

    सादर

    ReplyDelete
  2. जाने कब जाने कैसे ?
    हाथों की लकीरों में ,
    दर्द दिल का उतर आया ,
    जो किसी चेहरे पर ,
    बीते वक़्त पढ़ा था ...

    कमाल की पंक्तियाँ..बहुत सुन्दर कोमल अहसास... सुन्दर संवेदनशील और मर्मस्पर्शी रचना..

    ReplyDelete
  3. हर शब्‍द बहुत कुछ कहता हुआ, बेहतरीन अभिव्‍यक्ति के लिये बधाई के साथ शुभकामनायें ।

    ReplyDelete
  4. आपकी हर रचना की तरह यह रचना भी बेमिसाल है !

    ReplyDelete
  5. बुहुत बुहुत धन्यवाद आप सभी का .....

    ReplyDelete
  6. प्रभावी भाव ..........

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...