सर्वाधिकार सुरक्षित : - यहाँ प्रकाशित कवितायेँ और टिप्पणियाँ बिना लेखक की पूर्व अनुमति के कहीं भी प्रकाशित करना पूर्णतया अवैध है.

Followers of Pahchan

Aug 4, 2011

प्रिय


सुनो ! तुम दूर हो इतने ,
कभी आइना बन जाओ ,
तुम्हे में देख कर सवंरू ,
मेरा  श्रृंगार बन जाओ !
सुनो तुम दूर हो इतने........

प्रिय ,
तुम्हे जो खत लिखे मैंने ,
लिखकर खुद को सुनाती हूँ ,
ताकती हूँ राहें तुम्हारी ,
और फिर गीत गाती हूँ , 
ढलते पहरों में तुम्हारी ही याद आती है ,
रात में चंद संग तुम्हारी बात होती है , 
मुझे शक है उसे तुमसे जलन होगी , 
यही सोच , मैं कुछ आगे कह नही पाती !
सुनो ! तुम दूर हो इतने ........


प्रिय ,
तुम्हारे आने की जब ,
आहट सी मिलती है , 
तब अपने घरोंदे का ,
मैं  हर कोना सजाती हूँ , 
रह  गया अधूरा कुछ , तुम्हे न रास आएगा ,
बिना शूल का उपवन से , मैं सजाने को फूल लाती हूँ, 
मुझे शक है उन्हें(फूल) तुमसे जलन होगी ,
यही सोच , मैं आगे कुछ कह नही पाती !
सुनो ! तुम दूर हो इतने ......
 



 -Anjali Maahil


17 comments:

  1. तुम्हारे आने की जब ,
    आहट सी मिलती है ,
    तब अपने घरोंदे का ,
    मैं हर कोना सजाती हूँ ,
    रह गया अधूरा कुछ , तुम्हे न रास आएगा ,
    बिना शूल का उपवन से , मैं सजाने को फूल लाती हूँ,
    मुझे शक है उन्हें(फूल) तुमसे जलन होगी ,
    यही सोच , मैं आगे कुछ कह नही पाती !waah

    ReplyDelete
  2. आपका यह इंतज़ार जल्द ही पूरा हो। आमीन!

    बेहतरीन कविता।

    सादर

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन रचना।
    सुंदर प्रस्‍तुतिकरण।
    आपके ब्‍लाग का नया ले आऊट भी अच्‍छा है।
    शुभकामनाएं......

    ReplyDelete
  4. वाह वाह बहुत ही सुन्दर भावाव्यक्ति।

    ReplyDelete
  5. बहुत ही खुबसूरत शब्दों को सजा का इंतज़ार को रचना में उतरा है... बहुत ही सुन्दर...

    ReplyDelete
  6. intzaar ka bhi apna ek maza hota hai... bhaut khubsurat rachna...

    ReplyDelete
  7. ummedon aur sapno ka sansar kitna pyara hota hai na ?

    sunder abhivyakti.

    ReplyDelete
  8. आपकी इस पोस्ट की हलचल आज यहाँ भी है

    ReplyDelete
  9. बेहद खूबसूरती से पिरोई दिल को छू जाने वाली रचना. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  10. कोई दूर होकर भी इतना पास हो जाता है और कोई पास रहकर भी दूर होता है.......यही तो प्रेम का अनूठा रंग है|

    ReplyDelete
  11. सुन्दर अभिव्यक्ति ....

    ReplyDelete
  12. इंतजार ही तो प्रेम का एक सुन्दर पल है...सुन्दर अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  13. प्रेम भाव की ...प्यार में प्रतीक्षा की....हृदयस्पर्शी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  14. आप सभी कि शुभकामनाओं और प्रतिक्रियाओं के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद !!!!

    ReplyDelete
  15. माहिल जी आप को भगवान और प्रेरणा दे तथा आपकी सभी मनोकामनाऐं पूरी हांे

    ReplyDelete
  16. प्रवीन जी आपका बहुत बहुत शुक्रिया इस शुभ-कामनाओ के लिए ...भगवान आपको भी यश और प्रेरणा दे ....!!

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...